डीप ब्रेन स्टिमुलेशन हिंदी – पार्किंसंस का अनोखा उपचार !

डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) पार्किंसंस के लिए एक अनोखा उपचार है.

दवाइयों से ट्रीटमेंट के कई सालों बाद, पार्किंसंस का इलाज सिर्फ दवाइयों से करना मुश्किल हो जाता है.

ऐसे जटिल परिस्थितियों मैं, डीप ब्रेन स्टिमुलेशन का काफी फायदा हो सकता है.

DBS क्या होता है, DBS के फायदे और दुष्परिणामों के बारे में पढ़े.

डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) क्या होता है?

डीबीएस एक छोटी मशीन का इस्तेमाल करके दिमाग को बिजली से उत्तेजित करना है। डीबीएस कई दिमागी भागों को उत्तेजित कर सकता है।

डीबीएस कई बीमारियों में इस्तेमाल  किया जाता है। यह केवल “पार्किंसंस सर्जरी” के लिए नहीं है। इसका इस्तेमाल मिर्गी और चलने से संबंधी अन्य परेशानियों के लिए भी किया जा सकता है।

मूल सेटअप समान है।

डीबीएस बैटरी को छाती की त्वचा के नीचे डाला जाता है। बैटरी से दो छोटे तार सिर तक जाते हैं। तार खोपड़ी के माध्यम से जाते हैं। उन्हें दिमाग के जरुरी जगह में डाला जाता है।

एक डीबीएस प्रणाली – बैटरी / पेसमेकर को छाती में त्वचा के नीचे रखा जाता है। दिमाग के अंदर जाने वाले तार को “इलेक्ट्रोड” कहा जाता है

पार्किंसंस रोग के लिए: दिमाग का यह जरुरी भाग आमतौर पर “सबथैलेमिक न्यूक्लियस (एसटीएन)” है।

कुछ रोगियों में, दिमाग की एक अन्य जगह को लक्ष्य के रूप में चुना जाता है। यह अन्य जगह ग्लोबस पल्लीडस इंटर्ना (जीपाई) है।

जगह को कैसे चुना जाता है? इस लेख को पढ़ें   [यहाँ क्लिक करें]

डीबीएस एक दम से पार्किंसंस के लक्षणों में सुधार कर सकता है। इंटरनेट पर पहले-बाद के कई वीडियो उपलब्ध हैं।

उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में न्यूरोमेडिकल सेंटर का यूट्यूब पर पोस्ट किया गया एक वीडियो है।

पार्किंसंस के कोनसे मरीज़ ने डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) करवाना चाहिए?

डीबीएस करवाने का एक ही कारण है।

यदि – दवाएँ लेने के बावजूद – पार्किंसंस रोग के कारण आपके जीवन में परेशानियां हैं तो आपको डीबीएस करवाना चाहिए

हम इसे “विकलांगता” कहते हैं।

आप जानते हैं, पार्किंसंस रोग के काफी आगे स्टेज के मरीज भी लिवोडोपा की एक बड़ी खुराक के बाद ठीक हो जाते हैं!

तो मरीज को काम करने चलने फिरने में परेशानी क्यूँ आ रही है? मोटर के उतार-चढ़ाव के कारण ये परेशानी हैं।

आइए हम 2 सबसे आम उतार-चढ़ाव देखें:

१. अपेक्षित असर कम होना:

लिवोडोपा को लेने के बाद आपको लगभग ठीक लगने लगता है। लेकिन असर बहुत जल्द ही खत्म हो जाता है।

READ MORE:
  Tremor Meaning in Hindi [ हाथ-पांव की कंपन का मतलब और कारण! ]
थोड़े लोगों में लिवोडोपा का असर थोड़े ही घंटो तक रहता है.

यह 2 घंटे के बाद या कभी-कभी 1 घंटे के बाद भी खत्म हो सकता है। आप सचमुच यह बता सकते हैं कि क्या होने जा रहा है।

फिर आप दूसरी खुराक लेते हैं, और आप ठीक हो जाते हैं। लेकिन फिर 1-2 घंटे के अंदर, यही बात होती है!

यहां ओरियन फार्मा द्वारा पोस्ट किया गया एक वीडियो है। सुश्री डोरेन नामक एक मरीज ने उसके ऊपर होने वाले असर के  गायब होने के बारे में बताया है:

यह “असर खत्म” होने की परेशानी ही डीबीएस सर्जरी कराने का सबसे आम कारण है।

२. खुराकसीमित करना- डिस्केनेसिया:

शुरू में, आपने लिवोडोपा की छोटी खुराक ली।

जैसे-जैसे साल बीतते गए, आपको बड़ी खुराक की जरूरत पड़ने लगी । ठीक है। आप फिर भी ठीक महसूस कर रहे थे।

लेकिन कुछ लोग नोटिस करते हैं कि जब वे बड़ी खुराक लेते हैं, तो उनका शरीर कांपने लगता है।

डिस्केनेसिया डांस जैसी कपकपी है। अगर ये अनियंत्रित हो, तो DBS को इस्तेमाल किया जा सकता है.

इन अधिक कम्पन को धीमी ब्रेक-डांसिंग की तरह देखा जाता है। इसे “डिस्केनेसिया” कहा जाता है। यह काफी खतरनाक  हो सकता है।

यहाँ लिवोडोपा के कारण डिस्किनेसिया का एक वीडियो है। इस वीडियो को सुश्री टेसी नाम की एक बहादुर मरीज ने यूट्यूब पर पोस्ट किया है।

तो, कुछ लोग एक अजीब स्थिति में हैं। जरुरी मात्रा में लिवोडोपा न लें, तो शरीर के अंग कठोर हो जाते हैं। लिवोडोपा जरुरी मात्रा में लें, तो डिस्केनेसिया हो जाता है।

खतरनाक “डिस्केनेसिया” के कारण मरीज़ उतना अधिक लिवोडोपा नहीं ले सकते, जितना उन्हें चाहिए।

इसका उपाय डीबीएस है। डीबीएस इन समस्याओं को कण्ट्रोल करने में मदद करता है।  [एसटीएन बनाम जीपाई डीबीएस]।

 

कितने लोगों में डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) सफल होता है?

८५-९०%

डीबीएस से बहुत से पार्किंसंस रोगी ठीक हो जाते हैं।

मेडट्रॉनिक के आंकड़ों के अनुसार, 85-90% रोगियों में डीबीएस के बाद बहुत अच्छा सुधार होता है।

डीबीएस सभी लक्षणों को बराबर कम नहीं करता है। यह कुछ लक्षणों को खासकर कम करता है।

अधिकतर समय में:

  • डीबीएस कपकपी, जकड़न और सुस्ती के प्रमुख लक्षणों को कम करता है।
  • रोगी तेजी से चलते हैं। हालांकि, डीबीएस असंतुलन को कम नहीं करता है।
  • डीबीएस पार्किंसंस रोग के कई गैरमोटर लक्षणों को कम करता है।

मोटर उतार-चढ़ाव:

आगे बढ़ने से पहले, आइए हम “ऑफ” और “ऑन” शब्दों को देखें।

  • ऑफ का मतलब है कि पार्किंसंस रोगी बिना लक्षणों के कैसे होता है – इसके बहुत खतरनाक लक्षण हैं।
  • ऑन का मतलब है कि जब मरीज का उपचार अच्छी तरह से काम करता है तब मरीज कैसा है – इसके कुछ लक्षण हैं।
READ MORE:
  पार्किंसंस उपचार - इन दवाइयों से दूर रहे !!! [Parkinson's disease in Hindi]

पार्किंसन की बीमारी में बाद के स्टेज में, दवा काम नहीं करती । यह “मोटर उतार-चढ़ाव” का कारण बनता है।

पार्किंसंस रोग के आख़िरी स्टेज  में, आपका दिन एक रोलर कोस्टर की सवारी की तरह लग सकता है। आप कुछ घंटे  ऑन रहते हैं, और अन्य घंटे ऑफ रहते हैं। इस उतार-चढ़ाव को “मोटर उतार-चढ़ाव” कहा जाता है।

आइए हम 2 सबसे आम मोटर उतार-चढ़ाव देखें:

  • कुछ रोगी कहते हैं कि उनकी दवाएं कुछ घंटों के बाद काम करना बंद कर देती हैं। वे “ऑफ” हो जाते हैं। इसे “प्रिडिक्टेबल वियर-ऑफ” कहा जाता है।
  • कुछ रोगियों को शिकायत होती है कि दवाएँ लेने के बाद उनका शरीर बहुत कांपता है। इसे “डिस्केनेसिया” कहा जाता है।

डीबीएस इन उतार-चढ़ाव को कम करता है। डीबीएस के बाद मरीजों को औसतन 4-5 अधिक  ऑन घंटे मिलते हैं। यह डीबीएस की मुख्य सफलता है। इसके अलावा:

  • जब मरीज़ ऑफ़ होते हैं, तब भी उनके लक्षण कम खतरनाक होते हैं।
  • डिस्केनेसिया में सुधार होता है। औसतन, डिस्किनेसिया 80% या उससे भी ज्यादा तक कम हो जाते हैं।

गैरमोटर समस्याएं:

शुक्र है, डीबीएस इनमें से कई गैर-मोटर समस्याओं को कम करता है। उदाहरण के लिए, डीबीएस के बाद नींद में सुधार होता है। मैंने, किंग्स कॉलेज में अपने साथियों के साथ, 2018 में डीबीएस के बाद नींद में सुधार पर एक रिसर्च पत्र पब्लिश  किया।

डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) के क्या दुषपरिणाम हो सकते है?

हालांकि यह दिमाग की सर्जरी है, अन्य सर्जरी के मुकाबले, यह मामूली है। इसलिए इसमें ज्यादा जोखिम नहीं हैं। लेकिन फिर भी थोड़ा बहुत है।

पूरी डीबीएस गाइड देखने के लिए क्लिक करें

डीबीएस सर्जरी कुछ घंटों का समय लेती है पर यह काफी सुरक्षित है।

आइए इस विषय पर सबसे बड़े रिसर्च में से एक देखें।

जर्मन रिसर्चर/वैज्ञानिकों (शोधकर्ताओं) के एक समूह ने 1,183 रोगियों का अध्ययन किया, जिन्होंने डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (डीबीएस) सर्जरी करवाई थी। इसमें पार्किंसंस रोग के साथ-साथ अन्य बीमारियों के रोगी शामिल थे। उनके रिजल्ट ये थे।

  1. मौत का ख़तरा 1% से कम था।
  2. लगभग 2% रोगियों के सिर के अंदर खून बह रहा था जिससे शरीर के एक तरफ कमजोरी थी। कई रोगियों में, यह कमजोरी 30 दिनों के अंदर अपने आप ठीक हो जाती है।
  3. कुछ रोगियों (0.6%) में संक्रमण जैसी असामान्य समस्याएं थीं।
  4. कुछ रोगियों (0.6%) को निमोनिया जैसी कुछ समस्याएं थीं।

कम शब्दों में:

  • 95% से अधिक रोगियों को कोई कठिनाई नहीं थी।
  • मौत या स्थायी परेशानी का खतरा बहुत ही कम (लगभग 1%) था।

[पूरी स्टडी के लिए यहाँ क्लिक करें]

डीबीएस से पार्किंसंस रोग की 3 परेशानियां और बिगड़ सकती हैं:

  • अगर आपको पहले से ही कण्ट्रोल न होने वाला डिप्रेशन है तो यह डिप्रेशन को और बिगाड़ सकता है।
  • इससे सोचने और याददास्त की समस्याएं और भी बढ़ सकती हैं, खासकर यदि आपको पहले से ही इस तरह की कोई समस्या है।
  • यह गिरने की समस्या को और बढ़ा सकता है, अगर आप ज्यादातर बेलेंस नहीं बना पाने के कारण गिरते हैं।
READ MORE:
  Parkinson's Meaning in Hindi [ पार्किंसंस रोग के लक्षण और अर्थ ]

 

डीबीएस से कितने मरीज खुश हैं?

यहाँ सबसे जरुरी प्रश्न हैं। क्या डीबीएस कराने वाले लोग उनके फैसले से खुश थे? क्या वे इसे दूसरों को इसे अपनाने के लिए कहेंगे ?

यह डीबीएस की सफलता को नापने का एक शानदार तरीका है।

रिजल्ट बहुत ही अच्छे हैं।

90% से अधिक लोग जिन्होंने डीबीएस सर्जरी कराई है, वे इससे खुश हैं। उनमें से ज्यादातर दूसरों को इसे आजमाने के लिए कहेंगे ।.

उदाहरण के लिए, 2019 में, पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय ने 320 मरीजों से ये सवाल पूछे, जिन्होंने डीबीएस कराया था।

  • 5% मरीज डीबीएस से खुश थे।
  • 95% पार्किंसंस वाले दूसरे रोगी को डीबीएस आजमाने के लिए कहेंगे।
  • 75% ने बताया कि यह अभी भी उनकी परेशानियों को कण्ट्रोल करता है।


पार्किंसंस की पूरी जानकारी: एक-एक कर के पढ़े

१. Tremors Meaning in Hindi [ हाथ-पांव की कंपन का मतलब और कारण! ]
२. Parkinson's Meaning in Hindi [ पार्किंसंस रोग के लक्षण और अर्थ ]
३. Parkinson’s treatment in Hindi [पार्किंसंस इलाज – लेवोडोपा और अन्य दवाइया]
४. डीप ब्रेन स्टिमुलेशन हिंदी – पार्किंसंस का अनोखा उपचार (DBS)
५. इन दवाइयों से दूर रहे !!!

चेतावनी:
यह जानकारी केवल शिक्षण के लिए है. निदान और दवाई देना दोनों के लिए उचित डॉक्टर से स्वयं मिले। उचित डॉक्टर से बात किये बिना आपकी दवाइयां ना ही बढ़ाये ना ही बंद करे!!


डॉ सिद्धार्थ खारकर

डॉ  सिद्धार्थ खारकर न्यूरोलॉजिस्ट, मिर्गी  (एपिलेप्सी) विशेषज्ञ और पार्किंसंस विशेषज्ञ है।

उन्होंने भारत, अमेरिका और इंग्लॅण्ड के सर्वोत्तम अस्पतालों में शिक्षण प्राप्त किया है।  विदेश में  कई साल काम करने के बाद, वह भारत लौटे ,औरअभी मुंबई महरारष्ट्र में बसे है।

संपर्क करें >>>

Leave a Comment